Indian Armed Forces इन 8 Special Forces से काँपता है दुश्मन

0
346

Indian Military का परचम संपूर्ण विश्व में शान से लहरा रहा है परन्तु सेना के विषय में आम लोग केवल Indian Army ,नेवी और एयर फोर्स ही जानते हैं | बहुत कम लोग ही जानतें है की हमारे देश के पास अद्भुत अविश्वसनीय Indian special forces भीं हैं, जो जनसामान्य के नजरों में आए बिना ही भारत के दुश्मनों के दाँत खट्टे करने में माहिर है | ये Special Forces अत्याधुनिक हथियारों से लैस होते हैं और कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी अपने लक्ष्य को प्राप्त करने का जज़्बा रखते हैं | तो आइये जानते हैं Indian Armed Forces की 8 Special Forces बारे में जिनसे दुश्मन थर थर कांपता हैं – वीडियो देखें लेख के अंत में

NSG Blackcat commondo एन.एस. जी ब्लैक कैट कमांडो –

एन.एस. जी ब्लैक कैट कमांडो का गठन १९९४ में किया गया था , यह सबसे प्रसिद्ध Special Commando force है , यह फोर्स सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा के मोटो पर काम करते हुए देश के बाहरी और आंतरिक दोनों दुश्मनों का सामना करते हुए इन्हे पराजित करने की शक्ति रखते हैं | यह कमांडो आतंकवाद , आपातकाल और बड़े से बड़े हमले को नाकामयाब करने में सक्षम है , एन.एस. जी कमांडो का नाम न सिर्फ भारत बल्कि विश्व के सबसे बेहतर फोर्सेज में शुमार है , इन कमांडोस की ट्रेनिंग बेहद कठिन होती है और चुनिंदा लोग ही इस फ़ोर्स का हिस्सा बन पाते हैं | २६/११ के मुंबई हमले में भी इस फोर्स ने अपने अतुल्य साहस का परिचय दिया था |

Garud Force गरुड़ फोर्स –

गरुड़ फोर्स तो हवाई युद्ध के लिए माहिर मानी जाती है , गरुड़ फोर्स को २००४ में एयरफोर्स डे के दिन दुनिया के सामने लाया गया था | मौजूदा समय में १००० सैनिक गरुड़ फोर्स में काम कर रहे हैं , सिर्फ एयरफोर्स के सैनिकों को ही गरुड़ बनने का मौका दिया जाता है , इनकी ट्रेनिंग सबसे लम्बी होती है जो ७२ हफ़्तों की है ,जबकि पूरी तरह से गरुड़ फोर्स में शामिल होने के लिए ३ साल तक का समय लग जाता है | प्रहार से सुरक्षा इसका मोटो है , दुश्मन के सीमा में घुसकर उसका खात्मा इस फोर्स की काबिलियत है |

Marcos मार्कोस फोर्स –

दुश्मन से आमने सामने की लड़ाई हो या बंधकों को बचाना हो या डायरेक्ट एक्शन मार्कोस कमांडो सदा तैयार होते हैं , इस फोर्स को दाढ़ी वाली फ़ौज के नाम से भी जाना जाता है क्योकि अपने ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए ये अपना विशेष गेटअप तैयार करते हैं | मार्कोस बनने की ट्रेनिंग २ साल की होती है , इसमें किवल २० से ४० वर्ष तक के युवाओं का चयन है | इनकी ट्रेनिंग अमेरिका व ब्रिटिश स्पेशल फोर्सेस के साथ होती है , कारगिल युद्ध में मार्कोस ने दुश्मन को घुटने टेकने में मजबूर कर दिया था |

Cobra Force कोबरा फोर्स –

यह सी.आर.पि.ऍफ़ की स्पेशल फोर्स है , इस फोर्स को कमांडो बटालियन फॉर रेसोल्युट एक्शन के नाम से भी जाना जाता है | जंगल की लड़ाइयां इनकी विशेषता है जिसे गोरिल्ला टेक्निक कहते हैं , या शिया मृत्यु इसका मोटो है | नक्शलवाद का खात्मा करने के लिए इस फोर्स का गठन किया गया है , बमों को ढूंढकर उन्हें निष्क्रिय करना इन्हे बखूबी आता है | यह हर हाल में दुश्मन को मात दे सकते हैं

Ghatak Force घातक फोर्स –

भारतीय थल सेना के साथ साहस और पराक्रम से सहयोग करते हैं , यह २० लोगों की पलटन होती है जो दुश्मन को चौकाने और हमला करने में माहिर होती है | घातक फोर्स पर्वतारोहण में पारंगत होते हैं | इस फोर्स के कमांडो आधुनिक शष्त्रों को हाथ में लेकर व २० किलो तक का वजन उठा कर भी मीलों का सफर तय कर सकते हैं , घातक फाॅर्स काफी मजबूत होते हैं शारीरिक तौर पर भी और मानसिक तौर पर भी |

Para Commando पैरा कमांडो –

पैरा कमांडो भारत की सर्वोत्तम फोर्सेस में से एक है ,यह फोर्सेस जमीन के साथ साथ हवा में भी युद्ध कला में शशक्त हैं | पैरा कमांडो ने सन १९७१ व १९९९ की जंग में भी अपना अहम् योगदान दिया था | इन कमांडोस को पैराशूट से कूदकर दुश्मन के इलाके में घुसने में माहरत हासिल है , हाल ही में पाकिस्तानी कश्मीर में घुसकर आतंकी ठिकानों को नष्ट करना का काम इन्ही कमांडो ने किया था जिसे देश व दुनिया सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से जानती है | लगभग ३ साल तक चलने वाली इनकी ट्रेनिंग बहुत ही कठिन होती है पारा कमांडो भारत की सबसे पुरानी पैराशूट रेजिमेंट है |

Force One फोर्स वन –

मुंबई हमलों के बाद महाराष्ट्र की सुरक्षा की लिए फोर्स वन का गठन किया गया , यह फाॅर्स महज १५ मिनट में अपने सभी सामानों के साथ तैयार हो जाते हैं ,
इनकी ट्रेनिंग में ही D.R.D.O , N.S.G और इसराइल की स्पेशल फोर्स की मेहनत लगती है | विस्फोटकों का ज्ञान और अचूकता से दुश्मनों को निशाना लगाने की कला इन्हे औरों से अलग बनाती है | इनकी भर्ती में ३००० लोगों में से केवल २१६ का चयन किया गया था , ये किसी भी हमले को रोकने में सक्षम है |

Special Frontier Force स्पेशल फ्रंटियर फोर्स –

स्पेशल फ्रंटियर फोर्स की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की यह फोर्स भारतीय खुफ़िआ तंत्र रॉ के साथ काम करती है , इस फोर्स को किसी भी मिशन के पहले प्रधानमंत्री को सुचना देनी पड़ती है | भारत चीन युद्ध के बाद के बाद इस फोर्स का गठन किया गया था ताकि चीन को मुहतोड़ जवाब दिया जा सके |

तो ये थी Indian Armed Forces की 8 Special Forces जिनसे दुश्मन थर थर काँपता है। Indian Special Forces के ये रणबाँकुरे देश की सुरक्षा के लिए हर वक़्त तैयार खड़े रहते हैं और हस्ते हस्ते देश पर अपनी जान न्योछावर कर देते हैं | इन्हें सही पकड़ें हैं की पूरी टीम का शत शत नमन. दोस्तों शेयर करें जितना हो सके आपसे।

LEAVE A REPLY