मुकेश अम्बानी को शादी से पहले माननी पड़ी थी ये शर्त

0
446

क्या आप जानते हे कि धीरूभाई अम्बानी के बेटे मुकेश अम्बानी को अपनी शादी से पहले नीता की एक शर्त माननी पड़ी थी।

कौन थी नीता ?

एक मिडिल क्लास फेमली से ताल्लुक रखने वाली नीता शादी से पहले एक प्राईवेट स्कूल में मात्र ८०० रुपए की सैलरी पर पढ़ाती थी. डाँस में रूचि रखनेवाली नीता को जब मुकेश की माता कोकिलाबेन ने उसकी एक डांस परफॉर्मेंस के दौरान देखा। नीता के गुणों और उसके मधुर व्यवहार की पारखी कोकिलाबेन को नीता एक बहके रूप ऐसा पसंद आ गई। इस तरह नीता मुकेश अम्बानी से शादी करके प्रसिद व्यवसाई धीरूभाई अम्बानी की बहु बन गई।  

शादी से पहले नीता की शर्त    

जब नीता के परिवार वालों को अम्बानी खानदान की इस इच्छा के बारे में पता लगा तो वो लोग हैरान हो गए कि कहाँ राजा भोज और कहाँ गंगू तेली। पर अपनेसिद्धांतो की धनी नीता ने इस शादी के लिए एक शर्त रख दी।

क्या थी वो शर्त

नीता को सर्वाधिक ख़ुशी बच्चों को पढ़ाने में मिलती थी। शादी के बाद पढ़ाना छूट जायेगा।  अपनी चाहत को जिन्दा रखने के लिए उसने अम्बानी परिवार के सामने ये शर्त रखी की शादी के बाद भी वह पढ़ाना जारी रखेगी।

एक रोचक क़िस्सा

अपने बारे में एक रोचक किस्सा बताते हुए नीता अम्बानी बताती हैं कि१९८७ में भारत में हुए वर्डकप मैच को रिलायंस ग्रुप स्पांस कर रहा था। उस समय नीता एक स्कुल में पढ़ाती थी। उसके एक स्टूडेंट के पैरेंट्स ने उस मैच की एक टिकट लाकर नीता को दी। विनम्र नीता ने वो टिकट धन्यवाद के साथ वापिस कर दी। लेकिन उन पैरेंट्स को उस समय बहुत हैरानी हुई कि जब उनहोंने स्टेडियम की प्रेसिडेंट बेंच की वी आई पी कुर्सी पर अपने बच्चे की टीचर को बैठे देखा।पूछने पर उन्हें बताया गया कि वो टीचर ही अम्बानी परिवार की बहू है।

आज की नीता

आज भी नीता अम्बानी पढ़ाई और खेल- कूद में प्रवीण बच्चों को अपने खर्चे पर ही ट्रेनिंग देकर उनका भविष्य सुधार  रही है। आई पी एल क्रिकेट खेलने वाली मुंबई इंडियन टीम की मालकिन है।         

                   

LEAVE A REPLY